भाग्यांक 4 - bhagyank 4 in numerology



भाग्यांक जानने के लिये, जन्म तिथि, जन्म माह तथा जन्म वर्ष की आवश्यकता होती है. भाग्यांक में
जन्म तिथि, जन्म माह तथा जन्म वर्ष का योग(जोड़) करना होता है और जो योग प्राप्त होता है वही भाग्यांक कहलाता है जैसे किसी व्यक्ति का जन्म 13 अक्तूबर 1961 है तो उसका भाग्यांक इस प्रकार प्राप्त कर सकते हैं.
जन्म तिथि =  13 = 1 + 3  = 4
जन्म माह   =  10 = 1+ 0   = 1
जन्म वर्ष    =  1961 = 1 + 9 + 6 + 1= 17
=  1 +7  = 8
=   4 + 1 + 8 = 13
=   1 + 3 = 4
इस प्रकार से इस व्यक्ति का भाग्यांक 4 है.










life path number 4 in hindi


भाग्यांक 4 राहु प्रभावी होता है. इस कारण  जीवन में कई महत्वपूर्ण घटनाएं अचानक होती  है । अंक ज्योतिष के अनुसार 4  भाग्यांक के व्यक्ति व्यवहार कुशल होते हैं। इनके विचार स्थिर नहीं होते लेकिन अच्छी बात यह है कि ऐसे व्यक्तियों के मन में नए-नए विचार आते रहते हैं इनके पास हमेशा कोई न कोई रास्ता होता है.

भाग्यांक चार वाले अपने आप को अनेक कार्यों में उलझाए रखते हैं तथा यह जीवन में कितने भी ऊँचे ओहदे प्राप्त करें परंतु अपनी उपलब्धियों से शांत नहीं रहते.

 ऐसे व्यक्ति की खूबी होती है कि अपनी मेहनत और लगन से देर से ही सही मंजिल पाकर ही रहते हैं। ये लोग किसी भी क्षेत्र में जाएं परन्तु अपने लगन व् परिश्रम से सफलता प्राप्त कर ही कर लेते हैं.

क्रोधी होते है लेकिन जल्दी ही क्रोध पर काबू पा लेते हैं। इस भाग्यांक के व्यक्तियों में लेखन एवं तकनीकी विषयों के प्रति अधिक लगाव होता है। कला एवं संगीत के प्रति भी इनमें आकर्षण रहता है। अक्सर देखा जाता है bhagyank 4 वाले  व्यक्तियों को medical field  में सफलता  मिलती है। भाग्यांक चार वाले व्यक्ति हर एक से ईमानदार नही होते लेकिन जिससे ईमानदार हो जाये उसका हमेशा साथ देंगे।

आर्थिक (financial) मामलों में इन्हें अधिक  सावधान रहने की जरुरत होती है otherwise  लाइफ में कई बार आर्थिक परेशानियों का सामना करना पड़ता है।  किसी पर भी भरोसा करना इनके लिए नुकसानदेय होता है।



भाग्यांक चार वालों को धन का संचय अवश्य करना चाहिए क्योंकि आपने खर्च करने की चाहत खूब होती है तथा धन भी बहुत मेहनत से कमाते हैं. अत: बचत करना सीखें करे

Comments

services

Popular posts from this blog

5 सबसे बड़े वास्तु दोष- 5 biggest vastu dosh

दुकान व शोरुम के लिए वास्तु टिप्स - vastu tips for shop and showroom in hindi

कैसे और क्यों उपयोग करते है घोड़े की नाल - black horse shoe benefits in hindi

from the web

loading...

Hinduism