वास्तु शास्त्र में दक्षिण-पश्चिम ( नैऋत्य कोण) का महत्व- south-west in vastu

south-west corner in vastu
वास्तु शास्त्र में दक्षिण-पश्चिम ( नैऋत्य कोण) सबसे महत्वपूर्ण दिशाओं में से एक है यहाँ तक की कुछ वास्तु विद (Vaastu experts) इसे ही सबसे जरूरी दिशा मानते है. इसे नैऋत्य कोण से भी जाना जाता है. इस दिशा का स्वामी राहु ग्रह  होता है. अब हम जानते है की क्यों ये जरूरी दिशा है -







विज्ञानं (Science) कहता है के समस्त ऊर्जा जो नार्थ-ईस्ट (north-east) से निकलती है वो साउथ-वेस्ट में ही जाकर रुक जाती है या स्थिर (stable) हो जाती है. विज्ञानं के अनुसार इस कोने में सबसे ज्यादा चुम्बकीय ऊर्जा होती है. इसीलिए वास्तु विद इस दिशा में पैसा रखने की सलाह देते है ताकि वो रुक जाये व् इसी कोने में अपने बुजुर्गो को भी कमरा देते है ताकि उन्हें स्थिरता मिले। 


vastu shastra के अनुसार यही दिशा जिंदगी में स्थायित्व प्रदान करती है चाहे वो relationships हो या financial matters. 
ज्योतिष में इस कोने का स्वामी राहु ग्रह बनता है जो आकस्मिक लाभ व् हानि का कारक होता है इसी लिए कुछ वास्तु विद इस कोने को भारी व् भरा हुआ रखने की सलाह देते है जिससे राहु ग्रह शांत रहे. इसी कोने शौचालय होना पितृ दोष भी माना जाता है.



अब जानते है इस कोने के दोषो को - इस कोने में बोरिंग या कोई पानी का सोर्स होना सबसे बड़ा दोष होता है जिससे घर में कभी भी शांति नहीं रहती व् घर का कोई प्राणी गलत आदत का शिकार होता है. इसके अलावा इस कोने किचन या टॉयलेट होना भी वास्तु दोष का निर्माण करता है.



इस कोने को खुला नही छोड़ते क्यूंकि जब सूरज इस कोने में आता है तो उसकी किरणे पराबैंगनी (ultra violet) हो जाती है जो कैंसर का प्रमुख  कारण होती है.

इस कोने का कटा (south-west cut) होने से कर्ज इतना चढ़ जाता की वयक्ति उसमे ही रह जाता है  और उससे आगे नही जा पाता।



रंगो के हिसाब से कोण में नीला, हरा व् लाल रंग परेशानी उत्पन्न करते है. 
ये कोना हमारे मूलाधार चक्र (root chakra) से सम्बन्ध रखता है जो हमारे जीवन में हमारी बचत, पैसा, संगत, प्रसिद्धि, पेट से निचे के रोग, बिज़नेस घाटा, आदि से सम्बन्ध रखता है इस कोने में कोई भी दोष होने से ये दिक्कते जरूर आती है जिसको दूर करना सबसे जरूरी है. घर में किसी भी वास्तु दोष को दूर करने से पहले साउथवेस्ट कोने के दोष दूर करना जरूरी होता है क्यूंकि इसके दोष दूर करने के बाद ही स्थिरता व् शांति प्राप्त कर सकता है. 


 इस बारे कोई और जानकारी चाहते है तो हमारे फेसबुक पेज पे संपर्क करे 
फेसबुक के लिए इस लिंक को क्लिक व् लिखे या मैसेज बॉक्स में सवाल लिखे.

दुकान व् शोरूम  टिप्स     




Comments

Thanks.....where should the kitchen be then?
prateek gupta said…
sir, best place for kitchen is south-east, than north-west. than south mid.
Praveen Mishra said…
Dear sir koi upay btayen south-west ke dosh door karne ke liye...?
Tarun Singhal said…
THANKS , Prateek Sir,
nice information
rakesh verma said…
Sir mere ghar me south east me problem hai mujhee kuch upaye bataye
Unknown said…
We have a boring in niruti kon and water storage tank there is in ishan kon
What should we do
prateek gupta said…
shift boring from southwest to southeast

services

Popular posts from this blog

5 सबसे बड़े वास्तु दोष- 5 biggest vastu dosh

दुकान व शोरुम के लिए वास्तु टिप्स - vastu tips for shop and showroom in hindi

कैसे और क्यों उपयोग करते है घोड़े की नाल - black horse shoe benefits in hindi

Hinduism