भाग्यांक 9 - bhagyank 9 in numerology



भाग्यांक में जन्म तिथि, जन्म माह तथा जन्म वर्ष का योग(जोड़) करना होता है और जो योग प्राप्त होता है
वही भाग्यांक कहलाता है जैसे किसी व्यक्ति का जन्म 6 जून 1959 है तो उस व्यक्ति का भाग्यांक इस प्रकार ज्ञात करेंगे - जन्म तारीख + जन्म माह + जन्म साल = भाग्यांक


जन्म तारीख = 6

जन्म माह = 6

जन्म साल = 1959

6 + 6 + 1 + 9 + 5 + 9 = 36

3 + 6 = 9

इस प्रकार इस व्यक्ति का भाग्यांक 9 होगा.










भाग्यांक 9 का स्वभाव और गुण | Behaviour and Qualities of Bhagyank 9



भाग्यांक 9 वाले लोगों में नेतृत्व करने तथा संगठन करने के विशेष गुण विद्यमान होता हैं. भाग्यांक 9 वाले व्यक्तियों में समर्पण का भाव देखा जा सकता है. भाग्यांक नौ वाले जातकों के जीवन का प्रतिनिधित्व मंगल ग्रह करता है। भाग्यांक 9 वालों की मित्र संख्या भी ज्यादा  होती है. जो भी लोग इनके संपर्क में आते हैं वह इनसे दूर नहीं हो पाते।

भाग्यांक नौ वालों में गुस्सा भी बहुत होता है इन लोगों में साहस और जोखिम उठाने की शक्ति होती है. भाग्यांक 9 वाले रंगीन मिज़ाज के विलासी और शौकीन हो सकते हैं. भाग्यांक 9 वालों में निरंतर आगे बढ़ने और प्रगति करने की इच्छा रहती है अत: आप लोग अपने कार्यों को बिना रुके करने का प्रयास करते हैं

भाग्यांक 9 वाले अपने प्रत्येक काम को समय के अनुसार समाप्त करने में विश्वास रखते हैं. अपने उत्तरदायित्व को उचित प्रकार से निर्वाह करने का प्रयत्न करते हैं तथा इस प्रकार यह लोग सफलता प्राप्त करते हैं. धनार्जन करने में यह सफल होते हैं.

ये लोग  देखने में तो कठोर होंगे लेकिन अन्दर से उतने उदार भाव के होंगे।आपके सामने  कोई भी व्यक्ति बोलने का साहस नहीं करेगा, परन्तु पीठ पीछे लोग आपकी आलोचना करेंगे।



भाग्यांक 9 वालों में सौंदर्य के प्रति लगाव देखा जा सकता है. इन्हें साज- सजावट बहुत पसंद आती है. यह लोग अपनी मेहनत द्वारा ऊँचे पदों को प्राप्त करते हैं. भाग्यांक 9 वाले संकटों से घबराते नहीं तथा साहस से कार्य कर उन संकटों को दूर कर देते हैं.

भाग्यांक 9 वालों को क्रोध जल्दी आता है, इसलिए कई बार इन्हें नुकसान भी उठाना पड़ जाता है अत: अपने क्रोध पर नियंत्रण करने की आवश्यकता है. भाग्यांक 9 वाले जातक स्वतंत्र विचार वाले होते हैं. इसलिए किसी के अधीन कार्य करना‌ इन्हें पसंद नहीं आता

भाग्यशाली वर्ष- 9, 6, 3 और 5 इन अंको का जब-जब योग आयेगा या फिर ये अंक आमने-सामने आयेंगे तो वह वर्ष आपके लिए लाभकारी प्रतीत होंगे। जैसे- 18वां, 27वां, 30वां, 36वां, 45वां, 54वां, 59वां, 69वां, ये वर्ष आपके लिए अनुकूल रहेंगे।




Comments

services

Popular posts from this blog

5 सबसे बड़े वास्तु दोष- 5 biggest vastu dosh

दुकान व शोरुम के लिए वास्तु टिप्स - vastu tips for shop and showroom in hindi

कैसे और क्यों उपयोग करते है घोड़े की नाल - black horse shoe benefits in hindi

from the web

loading...

Hinduism