नामांक - namank in numerology



अंकशास्त्र में मूलांक (जन्मांक) और भाग्यांक ज्ञात करना  आसान होता है लेकिन नामांक को निकलने का थोड़ा अलग तरीका होता है. अंक शास्त्र के अनुसार नामांक का व्यक्ति के जीवन में महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ता है. आजकल हम अनेक व्यक्तियों को को देख सकते हैं जिन्होंने अपने नामांक में परिवर्तन करके अनेक उपलब्धियों को प्राप्त किया है. बहुत से लोग नामांक के सही उपयोग द्वारा अपने जीवन में अनेक बदलाव करने का प्रयास करने में सफलता पाते हैं.










हमेशा  कुछ अंक किसी निश्चित अंक के मित्र व कुछ शत्रु होते हैं. यदि नामांक, भाग्यांक व मूलांक के शत्रु अंक का होगा तो सफलता मिलने में मुश्किल होती है  इसलिए नामांक का मूलांक व भाग्यांक से बहुत आवश्यक होता है.

नामांक की गणना अंग्रेजी के अक्षरों को दिये गये अंकों के आधार पर ही की जाती रही है. नामांक कि गणना के लिए तीन पद्धति प्रचलित हैं -  कीरो पद्धति, सेफेरियल पद्धति तथा पाइथागोरस पद्धति , इनमें से किसी ने नौ अंक को स्थान दिया तो किसी ने स्थान नहीं दिया. 

कभी कभी सब कुछ होते हुए भी सफलता पाने में बहुत संघर्ष करना पड़ता है  ऐसे समय में अंक ज्योतिष या अंक शास्त्र द्वारा हम नाम में कुछ परिवर्तन करके उस नाम का महत्व एवं प्रभाव और भी अधिक बढा़ सकते हैं.

नाम के अंकों अर्थात नामांकों को घटा या बढ़ाकर उपयोग में लाने से उचित एवं उपयुक्त लाभ प्राप्त हो सकते हैं. यदि किसी व्यक्ति के नामांक का ग्रह उसके मूलांक, भाग्यांक का शत्रु होता है तो उस नाम को बदलने कि आवश्यकता होती है. नाम के आगे अथवा पीछे कुछ अक्षरों को जोड़ घटाकर नामांक को उसके भाग्यांक तथा मूलांक के साथ ताल मेल स्थापित करके उसे लाभकारी बनाया जा सकता है. आजकल हम काफी जगह बड़े बड़े लोगो के नाम या फिर किसी फिल्म या टीवी सीरियल के नाम थोड़ा सा फर्क किया होता है.

हमेशा वयक्ति के नामांक, मूलांक व् भाग्यांक में तालमेल होना चाहिए ये अंक आपस में शत्रु नही होने चाहिए.



नामांक में दिर गए अंकों के आधार पर हम किसी भी व्यक्ति, स्थान इत्यादि का नामांक प्राप्त कर सकते हैं. उदाहरण के तौर पर- अनिल कुमार के नाम का नामांक प्राप्त करना होतो वह इस प्रकार होगा.इसमें हम कीरो पढ़ती उपयोग करेंगे.

RAJ          K U M A R

2 1 1              2 6 4 1 2

2+1+1=4,     2+6+4+1+2=15

4+15=19

1+9   इस प्रकार इस व्यक्ति का नामांक10 = 1 बनता है.


अंग्रेजी के अक्षर
कीरो पद्धति
सेफेरियल पद्धति
पाइथागोरस पद्धति
A
1
1
1
B
2
2
2
C
3
2
3
D
4
4
4
E
5
5
5
F
8
8
6
G
3
3
7
H
5
8
8
I
1
1
9
J
1
1
6
K
2
2
2
L
3
3
1
M
4
4
3
N
5
5
4
O
7
7
5
P
8
8
6
Q
1
1
7
R
2
2
8
S
3
3
9
T
4
4
1
U
6
6
2
V
6
6
7
W
6
6
5
X
5
6
3
Y
1
1
4
Z


7
7
5

Comments

services

Popular posts from this blog

5 सबसे बड़े वास्तु दोष- 5 biggest vastu dosh

दुकान व शोरुम के लिए वास्तु टिप्स - vastu tips for shop and showroom in hindi

कैसे और क्यों उपयोग करते है घोड़े की नाल - black horse shoe benefits in hindi

Hinduism