मकर राशि की विशेषताएं - Capricorn rashi characteristics




मकर राशि का स्वामी “शनि देव” है. इस राशि का तत्व पृथ्वी तथा स्वरुप चर (चलायमान) होता है. इसकी दिशा दक्षिण होती है. मकर राशि सौम्य स्वभाव व वात प्रकृति की होती है. मकर राशि वाले शनि के गुणों से प्रभावित होते है. 












makar rashi in hindi



इसका रंग सांवला और काला होता है.इनकी नाक चपटी, पैनी आँखे,अधिक बालों से युक्त भौहें, शरीर से पतले तथा लंबे कद के होते है. इनका स्वभाव यदा-कदा उग्र भी होने लगता है.स्वभाव में उत्साह के साथ साथ झगड़ालु भी होते है. इस राशि वालों का क्रोध भी धीरे धीरे बड़ने लगता है और शांत भी जल्दी नहीं होते है. जहां ये अपने को कमजोर  पाते है अपने आप कमजोर हो जाते है 


यह उन व्यक्तियों में से है, जो अपना भाग्य खुद बनाते है. बहुत परिश्रमशील उद्यमी व्यक्ति होते है. सोच विचार कर किसी विषय पर निर्णय लेते है.सहनशक्ति अधिक होती है. परन्तु वह आशावादी नहीं होते है. कभी कभी उदासीनता के भाव की भी उत्पत्ति होती है.सुख-दुःख में समान भाव की अनुभूति करते है.

इस राशि के लोग अधिकतर धार्मिक प्रवृति के भी होता है. आपका गृहस्थ जीवन सामान्य रूप से अच्छा नहीं होता है.तनाव का भी सामना करना पड़ता है.पति पत्नी एक साथ एक छत के नीचे रहे, परन्तु दाम्पत्य जीवन सुखमय नहीं कहा जा सकता है. दोनों के विचारों में साम्य नहीं रहता है.मनोमालिन्य ही बना रहता है.


ऐसे लोगो को  राजनैतिक क्षेत्र में सफलता कम मिलती है.आपके लिए उपयुक्त सरकारी नौकरी , व्यापारिक संस्थानों की नौकरी,खदानों तथा तेलों के संस्थानों में काम करने के लिए उपयुक्त होते है.



ऐसे लोग जीवन में सर्वाधिक समझते है.आपके जीवन में भावुकता व संवेदनशीलता का कोई महत्व नहीं होता है. भोग विलास, ऐश्वर्य, सैर सपाटा में डूबे रहते है.धनसंग्रह में प्रवीण होते है.


आपका भाग्य उदय :- 36वें वर्ष के बाद, 37, 46, 55, 64, 73 vव 82वें वर्ष शुभदायक होते है.

मित्र राशियां :- कुम्भ,

शत्रु राशियाँ :- सिंह और धनु,

अनुकूल रत्न :- नीलम,

अनुकूल रंग :- नीला, काला और आसमानी,

शुभ दिन :- शनिवार,

अनुकूल देवता :- शिव, शनि देव,

अनुकूल अंक :- 8,

अनुकूल तारीखें :- 8, 17, 26,

व्यक्तित्व :- परोपकारी दया का अवतार, प्रशासक,

सकारात्मक तथ्य :- धरातल पर चलने वाला, कठोर परिश्रमी,

नकारात्मक तथ्य :- संदेहास्पद प्रवृति, जिद्दी ,

नाम अक्षर :- भो, जा, जी, जू, जे, जो, खा, खी, खू, खे, खो, गा, गी,









Comments

services

Popular posts from this blog

5 सबसे बड़े वास्तु दोष- 5 biggest vastu dosh

दुकान व शोरुम के लिए वास्तु टिप्स - vastu tips for shop and showroom in hindi

कैसे और क्यों उपयोग करते है घोड़े की नाल - black horse shoe benefits in hindi

Hinduism