अंकों से जुडे़ माह - Months Related to the numerology

अंकों से जुडे़ माह - Months Related to the numerology



अंक विद्या में सूर्य की विभिन्न राशियों में जाने  के आधार पर हर माह को एक अंक प्रदान किया जाता है. इन महीनों की अवधि, सामान्य अवधि से भिन्न होती है. सूर्य एक साल में बारह राशियों में चलता है वो अवधि 21 मार्च से चालू होती है आइये जानते है सूर्य राशि के आधार पर किस अंक वालो के लिए कौन सा महीना प्रभावशाली होता है.











जब सूर्य 21 मार्च को विषुव क्षेत्र में प्रवेश करता है तब उसे मेष राशि का आरम्भ माना जाता है. इसी प्रकार सभी बारह राशियों की गणना की जाती है. अंक गणित के अनुसार सूर्य की बारह राशियों में स्थिति वैदिक ज्योतिष से भिन्न होती है.


 पहली राशि मेष है.जिसका स्वामी मंगल है. और अंकशास्त्र में  मंगल का अंक 9 है. 21 मार्च से 19 अप्रैल तक की समय अवधि को मेष राशि के अधिकार क्षेत्र में रखा गया है. इस समय अवधि का अंक 9 है. 9 अंक का स्वामी ग्रह मंगल है. 21 मार्च से 19 अप्रैल तक मंगल सकारात्मक प्रभाव लिए होता है.


20 अप्रैल से 20 मई तक की समय-अवधि को वृष राशि के अधिकार क्षेत्र में रखा गया है. वृष राशि का स्वामी ग्रह शुक्र है. इस समय का अंक 6 है. इस समय शुक्र सकारात्मक प्रभाव  वाला होता है.


21 मई से 20 जून तक की समय अवधि को मिथुन राशि की अवधि होती है जिसका स्वामी बुध है. इस समय अवधि का अंक 5 है. इस अवधि में बुध का असर सकारात्मक तथा शुभ होता है.


21 जून से 20 जुलाई का समय को कर्क राशि के अधिकार क्षेत्र में रखा गया है. इस समय अवधि को दो अंक प्रदान किए गए हैं. इन दोनों अंकों - 2 तथा 7 और कर्क राशि का स्वामी ग्रह चन्द्रमा है. इस समय अवधि में चन्द्रमा का प्रभाव सकारात्मक रहता है.

21 जुलाई से 20 अगस्त तक की समय अवधि सिंह राशि की  है जिसका स्वामी सूर्य है. इस समय अवधि  अन्तर्गत दो अंक, 1 तथा 4 आते हैं. इस समय में सूर्य का प्रभाव अच्छा  रहता है.



21 अगस्त से 20 सितम्बर तक कन्या राशि चलती है.जिसका स्वामी बुध है और  अंक 5 का स्वामी ग्रह बुध है. इस समय को5 वालो के लिए  नकारात्मक माना जाता है.


21 सितम्बर से 20 अक्टूबर  तक तुला की अवधि मानी जाती है.जिसका  स्वामी ग्रह शुक्र है, इस समय अंक 6 वालों पर शुक्र का  प्रभाव नकारात्मक होता है.




21 अक्तूबर से 20 नवम्बर तक अवधि को वृश्चिक राशि के अधिकार में रखा गया है. इस राशि का स्वामी ग्रह भी मंगल है लेकिन यहाँ मंगल का प्रभाव नकारात्मक होता है. 



21 नवम्बर से 20 दिसम्बर तक की समय अवधि अंक 3 के अधिकार क्षेत्र में आती है. इस समय अवधि तथा अंक 3 की राशि धनु है. इस राशि तथा अंक 3 का स्वामी ग्रह गुरु है. इस समय गुरु का प्रभाव सकारात्मक माना जाता है.


21 दिसम्बर से 20 जनवरी तक की समय अवधि अंक 8 के अधिकार में आती है. इस समय की राशि मकर है. इस समय, मकर राशि तथा अंक 8 का स्वामी ग्रह शनि है. इस समय शनि का सकारात्मक प्रभाव रहता है.


21 जनवरी से 20 फरवरी तक  अवधि की राशि कुम्भ मानी गई है. कुम्भ राशि, इस समय अवधि तथा अंक 8 का स्वामी ग्रह शनि है. इस समय शनि का प्रभाव नकारात्मक रहता है.


21 फरवरी से 20 मार्च तक का समय की राशि मीन  का होता  है. मीन राशि का स्वामी ग्रह गुरु होता है. इस समय गुरु का नकारात्मक प्रभाव रहता है.







Comments

services

Popular posts from this blog

5 सबसे बड़े वास्तु दोष- 5 biggest vastu dosh

कैसे और क्यों उपयोग करते है घोड़े की नाल - black horse shoe benefits in hindi

दुकान व शोरुम के लिए वास्तु टिप्स - vastu tips for shop and showroom in hindi

Hinduism