वृश्चिक राशि की विशेषताए - vrischik rashi in hindi




वृश्चिक राशि का स्वामी “मंगल” ग्रह है. इसकी प्रकृति व स्वभाव सौम्य कफ प्रकृति है. मंगल अग्नि तत्व प्रधान होता है. इस राशि के लोग मझोले कद के गठे हुए शरीर तथा खिलते हुए गौर रंग के होते है. इनके बाल सघन होते है. इनके नेत्र चमकदार होते है. आइये जानते है इनके गुण 











vrischik rashi characteristics in hindi



इनका प्राकृतिक character  दम्भी, हठी, प्रतिज्ञ व स्पष्टवादी पुरुषों में आता है. इन्हें क्रोध जल्दी आता है. जरा सी भी विपरीत बात सहन नहीं कर सकते है. ये बिना कुछ सोचे समझे किसी से भी पीछे टकरा जाते है. लेकिन अपनी घबराहट प्रकट नहीं होने देते. क्रोध में कुछ ज्यादा भी  बोल जाते है.


परेशानी में भी  झुकने वाले नहीं होते है. इन लोगों की  इच्छा शक्ति बहुत ही मजबूत होती है. 




इस राशि वाले व्यक्ति बदला लेने वाले, instant action लेने  वाले व क्रियाशील होते है. यह लोग दूसरों की असावधानी का शीघ्र फायदा उठाने में तत्पर रहते है.



ऐसा देखा जाता है के scorpion rashi के लोग रात  में अधिक बलशाली हो जाते है. गुस्सा अपने अंदर पालते  है. यह क्रोध आने पर क्षमा करना नहीं जानते है. 





यह अपने मित्र सहयोगियों से अपने महत्वपूर्ण कार्य करवाना अच्छी तरह से जानते है. मित्रों का दायरा अत्यधिक होता है. समय समय पर वह लोग इनको मदद भी करते है.



 name & fame  का  इन्हें अत्यधिक लालच होता है. मित्रों पर जी जान से लुटाते है. लाइफ  के महत्वपूर्ण कार्य करके सफलता अर्जित करते है.इन्हें विभिन्न subjects  का ज्ञान भी रहता है. 



यह अपने परिश्रम के द्वारा सफलता अर्जित करते है. विद्वान के रूप में इनकी छवि बनी रहती है. कुल या परिवार में श्रेष्ठ रहते है.


 यह व्यक्ति डिक्टेटर, जासूस, केमिष्ट, रसायन, के कार्य सर्जन दन्त विशेषज्ञ, पुलिस अधिकारी, इंजीनियर, होते है. इनका जान पहचान का क्षेत्र काफी बड़ा होता है. वृश्चिक राशि में चन्द्रमा नीच का होता है जिस कारण इनका नेचर soft नही होता.  इनको नोर्मल्ली  गले, छाती, गर्मी, वायु तथा बवासीर जैसे रोगों की संभावना रहती है



भाग्य उदय वर्ष:- 28वां वर्ष, सफलता का वर्ष होता है. वैसे इनके जीवन में 35, 44, 52, 53, 71, एवं 80वां वर्ष विशेष प्रभावशाली होता है.


नाम अक्षर:- तो, ना, नी, नु, ने, नो, या, यी, यु,


मित्र राशियां:- कर्क एवं मीन,

शत्रु राशियां:- मेष, मिथुन, सिंह, धनु,

अनुकूल रत्न:- मूंगा, मोती,

अनुकूल रंग:- लाल, पीला,

शुभ दिन:- मंगलवार, गुरूवार,

अनुकूल देवता:- शिवजी, भैरव जी, श्री हनुमान जी,

अनुकूल तारीखें:- 9, 18, 27,


सकारात्मक तथ्य:- बुद्धिमान, निडर, प्रकृति प्रेमी,

नकारात्मक तथ्य:- स्वार्थी, ढोंगी, क्रोधी,

Comments

services

Popular posts from this blog

5 सबसे बड़े वास्तु दोष- 5 biggest vastu dosh

दुकान व शोरुम के लिए वास्तु टिप्स - vastu tips for shop and showroom in hindi

कैसे और क्यों उपयोग करते है घोड़े की नाल - black horse shoe benefits in hindi

from the web

loading...

Hinduism