कैसे चुने अंकशास्त्र के अनुसार अपनी कार- choose car as per numerology



अंकशास्त्र में बहुत सी बातों का अधय्यन किया जाता है.numerology का सीधा सा नियम है जो अंक या घटना आपके नामांक और जन्म तारीख के अंक के अनुकूल होगी वह अच्छा रिजल्ट देगी नही तो बुरा प्रभाव देगी. आज हम जानते है आपकी गाडी  नंबर किस तरह से चुनना चाहिए 
















गाड़ी का नंबर | Car Number numerology in hindi


कभी कभी ऐसा होता है के कार बहुत ज्यादा परेशान करती है या तो रोजाना खराब रहती है या एक्सीडेंट की problem  आती रहती है और  पैसा बहुत खाती है इसके अलावा कभी कभी गाडी बहुत अच्छी चलती है और बचत भी पूरी करती है, क्या  आप इनके कारण जानते है. इसका सम्बन्ध न्यूमरोलॉजी से भी बनता है.



 जिस गाडी का नंबर आपके डेस्टिनी नंबर या भाग्यांक के अंक से अनुकूल हो तो वो गाडी आपको फायदा ही देगी.(your destiny numbers friendly car  number gives benefit otherwise creates problems) अगर आपके भाग्यांक के प्रतिकूल हो तो उसमे दिक्कत आ सकती है. आइये इसे समझते है 


माना किसी की गाड़ी का पूरा नंबर DLT - 1234  है. इसमें गाडी के सभी अंको का जोड़ देना होगा। D का अंक 4 है, L का अंक 3 है और T का अंक 2 है. अब इसे हम इस प्रकार जोड़ेंगे 

4+3+2+1+2+3+4 = 19 = 1+9 = 10 = 1

इस प्रकार गाडी का नंबर 1 हुआ 

और फिर  आप अपना भाग्यांक जोड़े जो की आपके जन्म तारीख का जोड़ होता है जैसे 18-1-1988 = 45 = 9 


अंक शास्त्र के अनुसार 1 और 9 अंक आपस में समभाव (friendly) रखते है इस ये कार अच्छे फल देगी। इसके अलावा यदि किसी का भी  7 या 8 अंक आता फिर ये कार बुरे फल देती। क्यूंकि 7 और 8 दोनों 1 व् 9 के अनुकूल नही होते।




इसी तरह से आप अपना मोबाइल नंबर भी चुन सकते है अपने मोबाइल नंबर का जोड़ अपने टैलेंट नंबर के हिसाब से ही चुनना चाहिए। (as per numerology you can choose your mobile number by your talent number )



note - टैलेंट अंक व् भाग्यांक एक ही अंक होता है. (talent number and life path number are same)







Comments

services

Popular posts from this blog

5 सबसे बड़े वास्तु दोष- 5 biggest vastu dosh

दुकान व शोरुम के लिए वास्तु टिप्स - vastu tips for shop and showroom in hindi

कैसे और क्यों उपयोग करते है घोड़े की नाल - black horse shoe benefits in hindi

Hinduism