फेंगशुई से लाएं करियर में तेज़ी




फेंगशुई के अनुसार जल तत्व (water element) - उत्तर दिशा में होता है. ये आपके कैरियर लक को बढ़ता है. हमारी डेली व् monthly आमदनी से इसका सबसे ज्यादा संबंध होता है.इस हिस्से में खराबी हमारी आमदनी में रुकवाट डालती है.  आइये जानते है फेंगशुई के द्वारा जल तत्व के जोन को कैसे  ठीक करे और अपने  करियर और आमदनी को ठीक करे. 





उत्तर दिशा में जल ऊर्जा या जल तत्व आपके वयवसाय या नौकरी से सम्बंधित होता है. इसका अच्छा होना आपको ये विश्वास देता है के आप कुछ न कुछ कमाते रहेंगे और कुछ हद तक खुश रहेंगे।



फेंगशुई के हिसाब से जल तत्व - Feng shui element of water is :


पृथ्वी तत्व के द्वारा नष्ट होता है - Destroyed by: EARTH, 

लकड़ी तत्व के द्वारा कमज़ोर होता है -Weakened by :WOOD,
धातु तत्व के द्वारा बढ़ जाता है - Enhanced by METAL ( लेकिन हर धातु नही )


यदि आपके घर में उत्त्तर या उत्तर-पूर्व में कोई टॉयलेट या किचन है तो ये आपके उन्नति में बाधा डालेगा। यदि किचन हो तो घर में कलह व् बीमारी की सम्भावना रहती है. इसके लिए आपको खराब जल तत्व की एनर्जी को समाप्त करना पड़ेगा। अब आप सोचिये खराब  जल को कौन खींच सकता है ? " लकड़ी". तो आप हरे-भरे पौधे यहाँ रख सकते है जो की खराब जल तत्व की ऊर्जा को कमज़ोर करते है. 


लकड़ी तत्व की ऊर्जा खराब जल से मिलने वाली negative energy को कंट्रोल करेगी। अब हमें उत्तर दिशा को अच्छी ऊर्जा देनी है इसके लिए हम टॉयलेट या किचन  के बाहर का area लेंगे जो की still उत्तर दिशा ही है. 


फेंगशुई में cycle of production सिद्धांत के अनुसार धातु (metal) तत्व पानी का निर्माण करता है. अब इसका मतलब ये नही के वह पर खूब सारी धातु की सामान रख दिए जाए. ऐसा करने उलट असर आ जाएगा। 



इस दिशा में केवल एक विंड चाइम और एक धातु का बना कछुआ आप रख सकते है. जब मेटल से मेटल आपस में टकराएंगी तो पानी तत्व का निर्माण होगा जो की करियर संबंधी बाधा को समाप्त करेगा। इसके अलावा आप छोटा सा पानी का fountain भी रख सकते है क्यूंकि ये भी जल ऊर्जा बढ़ाता है. इसके अलावा बहते पानी के चित्र लगाने फायदेमंद रहते है.


यदि आपकी नज़र अपनी मनचाही जॉब पर है तो north और नार्थ-ईस्ट के हिस्से ऊर्जावान (enhance) करना जरूरी है. यदि उत्तर और उत्तर पूर्व दिशा खाली है तो इस दिशा को सिर्फ पॉजिटिव एनर्जी देनी है. 





ये पोस्ट फेंगशुई सिद्धांत के अनुसार लिखी गयी है वास्तु शास्त्र के सिद्धांत इससे कुछ अलग होते है. इनमे confuse न होयें। 







बचत किया पैसा रखने की दिशा व् नियम

Comments

services

Popular posts from this blog

5 सबसे बड़े वास्तु दोष- 5 biggest vastu dosh

दुकान व शोरुम के लिए वास्तु टिप्स - vastu tips for shop and showroom in hindi

कैसे और क्यों उपयोग करते है घोड़े की नाल - black horse shoe benefits in hindi

from the web

loading...

Hinduism