नाम अक्षर से अपनी राशि जानिए- Know your Rashi by name

 

How to know Rashi by name


भारतीय jyotish  के अनुसार किसी भी प्रकार के मुहूर्त  आदि के लिए अन्य बातों के साथ व्यक्ति की राशि (जन्म राशि / नाम राशि ) को भी ध्यान में रखा जाता है। आइये जानते है नाम के पहले किस अक्षर से कौन सी राशि आती है. 









राशि का निर्धारण नाम के प्रथम अक्षर के आधार पर किया जाता है। राशियों और उनसे सम्बंधित अक्षरों का विवरण इस प्रकार है -


१. मेष राशि - mesha rashi- चु, चे, चो , ला, लू, ले लो, अ। (इस राशि में 'ल' अक्षर की पूरी बारहखड़ी (अर्थात 'ल' अक्षर से बनने वाले सभी अक्षर) तथा अ, आ, अं, चु, चे, चो, चौ,अक्षरों को शामिल किया जाता है।)



२. वृषभ राशि - vrish rashi- ई, उ, ए, ओ, वा, वी, वू, वे, वो। ( इस राशि में 'व' और 'ब' अक्षरों की पूरी बारहखड़ी को तथा ई, इ, उ, ऊ, ए, ऐ, ओ, औ अक्षरों को शामिल किया जाता है।)


३. मिथुन राशि - mithun rashi - का, की, कु, घ, ङ, छ, के, को, ह। ( इस राशि में क, घ, ङ, छ अक्षरों की पूरी बारहखड़ी तथा ह, हं, हा अक्षरों को शामिल किया जाता है। )


४. कर्क राशि - kark rashi - ही, हु, हे, हो, डा, डी, डू, डे, डो। ( इस राशि में 'हि, ही, हु, हू, हे, है, हो, हौ' अक्षर तथा 'ड' अक्षर की पूरी बारहखड़ी को शामिल किया जाता है। )


५. सिंह राशि - singh rashi - मा, मी, मू, मे, मो, टा, टी, टू, टे। (इस राशि में 'ट, टा, टं, टि, टी, टू, टे, टै' अक्षर तथा 'म 'अक्षर की पूरी बारहखड़ी को शामिल किया जाता है। )


६. कन्या राशि - kanya rashi - टो, प (प्र ), पी, पू, ष, ण, ठ, पे, पो। ( इस राशि में टो, टौ अक्षर तथा प, ठ, ष, ण अक्षरों की पूरी बारहखड़ी को शामिल किया जाता है। )


७. तुला राशि - tula rashi - रा, री, रू, रे, रो, ता , ती, तू, ते। ( इस राशि में "र " अक्षर की पूरी बारहखड़ी के बारह अक्षर तथा त, तं, ता, ति, ती, तू, ते, तै , त्र, त्रि अक्षरों को शामिल किया जाता है। )


८. वृश्चिक राशि -vrishchik rashi - तो, ना, नी, नू, ने, नो, या, यी, यू। ( इस राशि में "न" अक्षर की पूरी बारहखड़ी के बारह अक्षर तथा 'तो, तौ, य, यं, यि, यु, यू' अक्षरों को शामिल किया जाता है। )


९. धनु राशि - ये, यो, भ, भी, भू, ध, फ, ढ, भे। ( इस राशि में "ध, फ, ढ " अक्षरों की पूरी बारहखड़ी के बारह अक्षर तथा ये, यै, यो, यौ, भ, भं, भा, भि, भी, भु, भू, भे, भै को शामिल किया जाता है। )


१०. मकर राशि - makar rashi - भो, जा, जी, खी, खू, खे, खो, ग, गी। ( इस राशि में "ज, ख " अक्षरों की पूरी बारहखड़ी के बारह अक्षर तथा 'भो, भौ, ग, गं, गा, गि, गी',अक्षरों को शामिल किया जाता है। )


११. कुम्भ राशि  - kumbh rashi- गु, गे, गो, सा, सी, सू, से, सो, द। ( इस राशि में "स, श "अक्षरों की पूरी बारहखड़ी के बारह अक्षर तथा 'गु, गू, गे, गै, गो, गौ, द, दं, दा' अक्षरों को शामिल किया जाता है। )




१२. मीन राशि - meen rashi - दी, दू, थ, झ, ञ, दे, दो, चा, ची। ( इस राशि में "थ, झ, ञ "अक्षरों की पूरी बारहखड़ी के बारह अक्षर तथा 'दि, दी, दु, दू, दे, दै, दो, दौ, च, चं, चा, चि, ची' अक्षरों को शामिल किया जाता है। )



इसके अलावा जन्मे राशि भी होती जो जन्म कुंडली के द्वारा देखि जाती है. 





Comments

services

Popular posts from this blog

5 सबसे बड़े वास्तु दोष- 5 biggest vastu dosh

दुकान व शोरुम के लिए वास्तु टिप्स - vastu tips for shop and showroom in hindi

कैसे और क्यों उपयोग करते है घोड़े की नाल - black horse shoe benefits in hindi

from the web

loading...

Hinduism