सूर्य तीसरे भाव में - sun in third house

लाल किताब में सूर्य अगर तीसरे भाव में हो तो ऐसा वयक्ति सम्पति वाला व् अपनी कमाई से आगे बढ़ने वाला होता है. ऐसे वयक्ति की माँ की आयु लम्बी होती  है यदि चन्द्र कुंडली में ज्यादा पीड़ित न हो. 



teesre bhaav mai surya

teesre bhav me suraj hone se अगर छोटा भाई है तो ये और शुभ हो जाता है. ऐसा वयक्ति  गरीब नही होता चाहे जैसे घर में पैदा हुआ हो. लेकिन यदि जातक गलत कामों में लिप्त होता है तो गरीबी आनी  पक्की है. 



teesre bhav ke surya ka upay

उपाय - अपनी माँ की सेवा करे. अपना चाल चलन ठीक रखे. 






Comments

services

Popular posts from this blog

5 सबसे बड़े वास्तु दोष- 5 biggest vastu dosh

दुकान व शोरुम के लिए वास्तु टिप्स - vastu tips for shop and showroom in hindi

कैसे और क्यों उपयोग करते है घोड़े की नाल - black horse shoe benefits in hindi

Hinduism