कपट योग - kapat yoga in astrology

कपट योग - kapat yoga in astrology
example of kapat yoga

दो पापी ग्रह राहु और शनि जब जन्मपत्री में एक दूसरे से ग्यारहवें और छठे  में  होते हैं तो कपट योग बनता है.
जिस व्यक्ति की कुंडली में योग होता है वो जातक अत्यंत नीच होता है अपने हित  के लिए किसी भी हद तक धोखा दे सकता है. इन पर विश्वास नही करना चाहिए। kapat yoga is form when saturn and rahu placed 6th and 11th from each other. these natives are very selfish and fraudy.










गुरु -चांडाल योग - what is guru chandal yoga


Comments

services

Popular posts from this blog

5 सबसे बड़े वास्तु दोष- 5 biggest vastu dosh

दुकान व शोरुम के लिए वास्तु टिप्स - vastu tips for shop and showroom in hindi

कैसे और क्यों उपयोग करते है घोड़े की नाल - black horse shoe benefits in hindi

Hinduism