search here

वास्तु अनुसार कहाँ होना चाहिए आपका टॉयलेट - WHICH DIRECTION FOR TOILET IN VASTU

वास्तु अनुसार कहाँ होना चाहिए आपका टॉयलेट - WHICH DIRECTION FOR TOILET IN VASTU


toilet वास्तु शास्त्र  में बहुत महत्वपूर्ण स्थान रखता है अगर ये गलत स्थान पर  बना है तो ये उस zone के हिसाब से परेशानियां देता है. जैसे यदि दक्षिण-पश्चिम में जाए तो relations को खराब कर देता है. आज चर्चा करते है वास्तु शास्त्र में टॉयलेट किस दिशा में होना चाहिए. 






toilet direction in vastu shastra in hindi 




वास्तु शास्त्र के प्रमुख ग्रन्थ "vishwakarma prakash"  में इसका उल्लेख मिलता है  है " या नैऋत्य मध्य पुरीष त्याग मन्दरम् ", इसका मतलब है हमारा toilet दक्षिण व् नैऋत्य कोण (south - southwest) में मध्य होना चाहिए. इसका कारण ये है के ये जोन जाने के लिए ही होता है (zone of expenditure and disposal). कुछ लोग इसे दक्षिण-पश्चिम भी बोलते है लेकिन इसे समझने की बात है ये हिस्सा दक्षिण-पश्चिम और दक्षिण दिशा के बीच का होता है. बिलकुल दक्षिण-पश्चिम में toilet नुकसान देता है. 



इसके अलावा वास्तु शास्त्र में दो और दिशा negative zone मानी गयी है पश्चिम वायव्य (west-northwest) और पूर्व आग्नेय (east-northeast). 



वायव्य कोण की पश्चिम दिशा चिंता की दिशा मानी जाती है, और आग्नेय कोण की पूर्व दिशा आलस की मानी जाती है इन दिशाओं में भी आप टॉयलेट का निर्माण करा सकते है. 




साहस नही छोड़ना चाहिए 9 वालों को - number 9 characteristics


धर्म का मज़ाक न उड़ाए मूलांक 7 वाले - number 7 character in numerology




1 comment:

rajaji said...

agar south west me hai tho upay kya hai?

Post a Comment

astro services

सलाह ले लिए contact करें यहाँ click करें