उत्तर-पश्चिम वास्तु दिशा क्यों जरूरी है

northwest vastu direction


आज चर्चा करते है उत्तर-पश्चिम कोण की, वायु तत्व का ये कोण महत्वपूर्ण होता है. इसका सीधा सम्बन्ध बाहरी दुनिया से मिलने वाले support से है. आइये जानते है और किस किस से जुड़ा हुआ है ये कोण 









northwest vastu direction 


नार्थवेस्ट कोण को वायव्य कोण भी कहा जाता है. वास्तु शास्त्र में इस कोण को outer world के support system से देखा जाता है. जैसे हमारे नौकर, staff, banks, clients आदि. इसमे दोस्त और रिश्तेदारों से मिलने वाला support भी शामिल है. 


इस दिशा में vastu dosh होने पर किसी का सपोर्ट नहीं मिलता। इस दिशा में bedroom होने पर लोग आपकी help कर देते है. हालाँकि फिर भी ये बैडरूम ज्यादा अच्छा नही है मेरी नज़र में. इसका कारण ये है के northwest- west का area depression देता है. और साथ ही वायु तत्व ज्यादा होने के कारण mind relax नही रहता। हां अगर घूमने फिरने में मज़ा आता है या marketing जैसा काम है तो ये रूम लिया जा सकता है. 


God related to northwest 


वास्तु शास्त्र में इस zone को कुलदेवी - कुलदेवता के लिए बताया गया है. जिनसे हमे support मिलता रहता है. अगर कुलदेवी की pic इस zone में लगाई जाये तो फायदा मिलता है. ध्यान रहे ये जोन kuldevta के लिए है ना की पितृ (ancestors) के लिए. उनके लिए दक्षिण-पश्चिम होता है. 


northwest-north vastu zone 


ये zone attraction के लिए होता है. इसमें attraction सम्बन्धी सभी बाते जैसे किसी को अपनी तरफ attract करना, अपना product आकर्षक बनाना, sex, अपने आप में एक आकर्षक person बनना इसी zone से related है. 


Comments

gplakhotia said…
On east wall is the place from where we can put our ancestor photos is right or wrong

services

Popular posts from this blog

5 सबसे बड़े वास्तु दोष- 5 biggest vastu dosh

दुकान व शोरुम के लिए वास्तु टिप्स - vastu tips for shop and showroom in hindi

कैसे और क्यों उपयोग करते है घोड़े की नाल - black horse shoe benefits in hindi

from the web

loading...

Hinduism