लग्न का स्वामी आठवें भाव में - Ascendant in the eighth house astrology


लग्न का स्वामी आठवें भाव में - Ascendant in the eighth house astrology


आज चर्चा करते है यदि लगन का स्वामी लग्न कुंडली के अष्टम भाव यानि के आठवें भाव में बैठा हो तो क्या प्रभाव होता है. 









Lord of Ascendant in the eighth house in hindi 


यह placement होने पर जातक थोड़ा mysterious type का होता है, अपनी बाते सीक्रेट रखता है, अद्रश्य ताकतें इससे जुडी रहती है. ऐसे लोग परा विज्ञानं में माहिर हो सकते है. 



ऐसे देखा जाता है के ये लोग अच्छे सलाहकार होते है खासकर lifestyle या मानसिक बातों से जुड़े विषयों में. education की बात की जाये तो पढ़ाई ठीक रहती है. ऐसे लोग कभी कभी धन खर्चने में कंजूसी दिखाते है. 



अगर इसमें बैठा ग्रह कमजोर है तो बीमारियां पीछा नहीं छोड़ती, मानसिक विकार उत्त्पन्न होते है, लेकिन यदि इसमें बैठा ग्रह अच्छा है strong है तो दूसरों के मन में जगह बहुत जल्दी मिलती है. ऐसे लोगों से बार बार सलाह लेने का मन करेगा. 



अनैतिक रिश्ते भी से लोगों के देखे जा सकते है but ये आजकल society में नार्मल बात है. कभी कभी ऐसा देखा जाता है के इनका बचपन परेशानी में निकलता है. अगर ये स्थिति कुंडली में है तो ऐसे लोगों को occult science या किसी consultancy activity से जुड़ना फायदा देता है.  

Comments

services

Popular posts from this blog

5 सबसे बड़े वास्तु दोष- 5 biggest vastu dosh

दुकान व शोरुम के लिए वास्तु टिप्स - vastu tips for shop and showroom in hindi

कैसे और क्यों उपयोग करते है घोड़े की नाल - black horse shoe benefits in hindi

Hinduism