27 नक्षत्र और उनके देवता - 27 naksatra devta

आज से नक्षत्र पर एक सीरीज start कर रहा हूँ, जिसमे हर नक्षत्र और इनसे जुड़े facts आपको पता चलेंगे। वैदिक शास्त्रों में नक्षत्रों के बारे में बहुत कुछ लिखा मिलता है, आज चर्चा करते हैं नक्षत्र से जुड़े देवताओं की.



भारतीय ज्योतिष नक्षत्र पर ही आधारित माना जाता है, हर गणना नक्षत्र के आधार पर ही होती है, आज आपको बताता है हर नक्षत्र से जुड़े देवता कौन कौन से है. ये एक astrologer के साथ साथ एक वास्तु consultant के लिए भी बहुत जरूरी है क्यूंकि ये सभी देवता वास्तु में अपना एक स्थान रखते है. 


27 naksatra devta 


nakshtra     -     devta


अश्विनी     -     अश्विनी कुमार 

भरणी       -      यम 

कृतिका    -       अग्नि 

रोहिणी     -       ब्रह्मा - प्रजापति 

मृगशिरा   -        सोम 

आर्द्र         -       शिव 

पुनर्वसु      -      अदिति 

पुष्य        -        गुरु 

श्लेषा        -         सर्प 


मघा         -       पितृ 

पूर्वा फाल्गुनी  -  अर्यमा 

उत्तरा-फाल्गुनी - भग 

हस्त       -         सविता 

चित्र     -           इंद्र-त्वष्टा 

स्वाति  -          वायु 

विशाखा     -     इन्द्राग्नि 

अनुराधा    -      मित्र 

ज्येष्ठा       -       इंद्र 

मूल         -      नैऋत्य 

पूर्वाषाढ़ा  -       जल 

उत्तराषाढ़ा   -     विश्वदेव 


श्रवण        -      विष्णु 


शतभिषा   -       वरुण 

पूर्व भाद्रपद  -   अजैकपाद 


उत्तरा भाद्रपद -  अहिर्बुध्न्य 

रेवती       -      पूषा 

अभिजीत   -       ब्रह्म 



ये देवता किसी न किसी कारण से ही बताये गए है, इनका दार्शनिक महत्व या तात्विक महत्व कुछ भी हो सकता है, काल्पनिक समझना नहीं चाहिए. 

Comments

services

Popular posts from this blog

5 सबसे बड़े वास्तु दोष- 5 biggest vastu dosh

कैसे और क्यों उपयोग करते है घोड़े की नाल - black horse shoe benefits in hindi

दुकान व शोरुम के लिए वास्तु टिप्स - vastu tips for shop and showroom in hindi

Hinduism